RAMANA MAHARISHI BOOKS

$19.20
FREE Delivery
$24  (20% off)
$16.80
FREE Delivery
$24  (30% off)
$14
FREE Delivery
$20  (30% off)
$22.40
FREE Delivery
$32  (30% off)
Filter
Filter by Publisher
More Publishers
Filter by Author
More Authors
Filter by Price ($9 - $174)

FAQs


Q1. What were Ramana Maharshi's last words?

 

शुक्रवार 14 अप्रैल, 1950 को भगवान श्री रमण महर्षि के "अंतिम" शब्द निम्नलिखित हैं:

 

"वे कहते हैं कि मैं मर रहा हूं, लेकिन मैं दूर नहीं जा रहा हूं। मैं कहां जा सकता हूं? मैं यहीं हूं।"

जब उनके भक्तों ने शिकायत की कि वे उन्हें छोड़ रहे हैं, तो उन्होंने उत्तर दिया:

 

·         "आप सभी लोग इस शरीर को बहुत अधिक महत्व देते हैं"

 

·         "गुरु भौतिक रूप में नहीं हैं। इसलिए उनके भौतिक रूप के गायब होने के बाद भी संपर्क बना रहेगा।"

 

श्री भगवान ने घोषणा की कि जिसने गुरु की कृपा प्राप्त की है उसे कभी नहीं छोड़ा जाएगा।


Q2. What is Ramana Maharshi philosophy?

 

'जब तक आंतरिक मनुष्य विकसित नहीं होता तब तक भौतिक वस्तुएं उसे संतोष नहीं देंगी। बाह्य पर बहुत ज्यादा ध्यान मनुष्य को एक अजीब से आंतरिक दुख से भर देता है, उसके दुख का कारण उसका अपना मन है।

 

एकांत मनुष्य के मन में होता है। व्यक्ति बीच बाजार होकर भी मन की पूरी शांति को बनाये रख सकता है। दूसरा व्यक्ति जंगल में रहकर भी अपने मन को काबू में नहीं रख सकता। एकांत मन का रुख है। तुम्हें अंततः एक ही 'मैं' पर आना है, आत्मा पर। ये सारे भेद जो 'मैं' और 'तुम' के बीच, वे अज्ञानवश हैं।


Q3. Did Ramana Maharshi write?

 

रमण ने स्वयं कोई पुस्तक नहीं लिखी। वास्तव में, वे बहुत कम शब्द बोलते थे और अधिकांश समय उनके शिष्य उनकी उपस्थिति में चिरस्थायी शांति और आनंद का अनुभव करते थे। वह केवल सत्य या ईश्वर के बारे में बोलते थे।

 

रमण महर्षि ने आध्यात्मिक उपदेश और निर्देश प्रदान किया। भक्तों और आगंतुकों द्वारा उठाए गए प्रश्नों और चिंताओं का उत्तर देते थे। इनमें से कई प्रश्नोत्तर भक्तों द्वारा लिखित और प्रकाशित किए गए हैं, जिनमें से कुछ का संपादन स्वयं रमण महर्षि ने किया है। कुछ ग्रंथ प्रकाशित हुए हैं जो स्वयं रमण महर्षि ने लिखे और संपादित किए थे।


Q4. Who am I Maharshi Ramana?

 

श्री रमण ने सिखाया कि सभी जीव बिना किसी दुख के हमेशा खुश रहना चाहते हैं। सभी में अपने लिए परम प्रेम देखा जाता है। और सुख ही प्रेम का कारण है। अतएव उस सुख को प्राप्त करने के लिए जो स्वयं का स्वभाव है और जो सुषुप्ति की अवस्था में अनुभव किया जाता है, जहाँ मन नहीं है, स्वयं को जानना चाहिए। इसे प्राप्त करने के लिए, ज्ञान का मार्ग, 'मैं कौन हूँ' के रूप में पूछताछ, प्रमुख साधन है। आपके सभी विचार, धारणाएँ, और यादें, - वे सभी एक मूल विचार का परिणाम हैं जिसे उन्होंने 'मैं' विचार कहा।