Please Wait...

श्रवण कुमार: Shravan Kumar

पुस्तक परिचय

 

श्रवण कुमार का नाम लेते ही एक ऐसे पुत्र की छवि उभरकर आँखों के सामने आती है, जिसने अपने माता-पिता की सेवा को ही अपने जीवन की सर्वश्रेष्ठ उपलब्धि मान लिया था ! उसके लिए माता-पिता ही भगवान थे ! अपने माता पिता को तीर्थयात्रा करने ली जाते समय सूर्यवंशी  राजा दशरथ के सब्दभेदी बाण से श्रवण ने अपने प्राण त्यागे थे ! मृत्यु के समय भी  उसके मन में अपने माता-पिता का ध्यान था- उनकी प्यास बुझाने के लिए सरयू से जल लेने आया था

श्रवण की मातृ-पितृ  भक्ति ने कई महापुरुषों का जीवन प्रभावित किया है ! राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अपने आत्मकथा में इसका उल्लेख करते हुए कहा है-'एक पौराणिक कथा होने के बावजूद यहाँ जीवन में माता-पिता का महत्व प्रकट करती है! इससे एक सच्चे पुत्र का रूप उभरकर सामने आता है!'

प्रस्तुत गाथा में यह सन्देश भी छिपा है की कर्मों का फल प्रत्येक को भोगना पड़ता है, वह भले ही श्रीराम के पिता दशरत ही क्यों हों !

Sample Pages


Add a review

Your email address will not be published *

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Post a Query

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES

Related Items