Please Wait...

लाल पुष्प (भारतीय साहित्य के निर्माता) - Lal Pushp (Makers of Indian Literature)

पुस्तक परिचय

लाल पुष्प ( 1935-2009) भारत विभाजन के बाद सिंधी साहित्य में उत्पन्न दूसरी युवा पीढ़ी के एक सबल साहित्यकार हैं । वे मनोविश्लेषणात्मक कहानियों के प्रबल लेखक नये भावबोध वाले उपन्यासकार एवं साहित्यिक निबंधों के रचयिता भी हैं । उनकी लगभग दो दर्जन पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं । लाल पुष्प को सर 1974 ई में हुनज़े आत्म जो मौतु (उसके आत्म की मृत्यु) पर साहित्य अकादेमी की ओर से पुरस्कार प्राप्त हो चुका है । इस पारितोषिक के फलस्वरूप महाराष्ट्र सरकार ने भी उन्हें गौरव पुरस्कार से सम्मानित किया । उनकी कहानियाँ अंग्रेजी हिंदी मराठी गुजराती उर्दू बंगला आदि भाषाओं में अनुवादित होकर पाठकों की प्रशंसा प्राप्त कर चुकी हैं । लाल पुष्प का पत्रकारिता में भी सक्रिय सहयोग रहा । विवादित व्यक्तित्व के बावजूद उनकी ख्याति भारत के साथ साथ हमारे देश की सीमाओं से परे सिंध देश में भी व्याप्त है । वरिष्ठ साहित्यकार एवं पत्रकार लाल पुष्प का जन्म 1 जनवरी 1935 ई में लाड़काणा शहर में हुआ था जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है । सुखी एवं सम्पन्न परिवार में जन्मे लाल पुष्प को भारत विभाजन के बाद कुछ समय तक कल्याण कैंप में रहकर अनेक असुविधाओं का सामना करना पड़ा । उसके बाद वे मुम्बई चले गए । वहीं उनका निधन 20 मार्च 2009 ई में उनके निवासस्थान पर हुआ । प्रस्तुत पुस्तक सिंधी के सुप्रसिद्ध विद्वान व शिक्षाविद्ध जगदीश लछाणी ने लिखी है जो डिग्री कॉलेज में सिंधी और हिंदी के लेक्चरर रह चुके हैं । उनकी सिंधी हिन्दी अंग्रेजी में अनेक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं । इससे पूर्व भी जगदीश लछाणी मोहन कल्पना और श्याम जयसिंघाणी पर साहित्य अकादेमी के लिए पुस्तकें लिख चुके हैं । संप्रति उल्हासनगर में प्राचार्य के पद पर कार्यरत हैं ।

 

अनुक्रम

1

संक्षिप्त जीवन परिचय

1

2

व्यक्तित्व एवं कृतित्व

17

3

मनोविश्लेषणात्मक कहानियों के सबल साहित्यकार

27

4

परम्परा से परे शिल्पगत परिपक्वता के साथ उपन्यासों का सृजन

50

5

आत्मजीवनी उपन्यास इतिहास

63

6

लाल पुष्प के अनुवादित उपन्यास

69

7

लाल पुष्य एक आलोचक

73

8

लाल पुष्प की रचनाएँ

83

 

Add a review

Your email address will not be published *

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Post a Query

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

CATEGORIES

Related Items