Subscribe for Newsletters and Discounts
Be the first to receive our thoughtfully written
religious articles and product discounts.
Your interests (Optional)
This will help us make recommendations and send discounts and sale information at times.
By registering, you may receive account related information, our email newsletters and product updates, no more than twice a month. Please read our Privacy Policy for details.
.
By subscribing, you will receive our email newsletters and product updates, no more than twice a month. All emails will be sent by Exotic India using the email address info@exoticindia.com.

Please read our Privacy Policy for details.
|6
Sign In  |  Sign up
Your Cart (0)
Best Deals
Share our website with your friends.
Email this page to a friend
Books > Hindi > चौखंबा > कायचिकित्सा: Kaya Chikitsa (Set of 3 Volumes)
Subscribe to our newsletter and discounts
कायचिकित्सा: Kaya Chikitsa (Set of 3 Volumes)
Pages from the book
कायचिकित्सा: Kaya Chikitsa (Set of 3 Volumes)
Look Inside the Book
Description





Contents (Volume I)

 

लेखकीय निवेदन

 

 

प्रकाशकीय निवेदन

 

1

विषय प्रवेश

 

2

कायपद निरुक्ति - पर्याय परिभाषा भेद इत्यादि

1-18

3

चिकित्सापद निरुक्ति परिभाषा अंग

19-43

4

चिकित्सा के भेद या प्रकार

44-88

5

चिकित्सा परूष

69-120

6

व्याधि निरुक्ति परिभाषा, पर्याय

129-236

7

व्याधि के प्रकार

237-246

8

निदान - विमर्श

247-278

9

संप्राप्ति तथा व्याधि नामकरण सिद्धान्त

280-220

10

दोष धातु मलादि विवेचन

224-242

11

उपधातु, मालक्षयवृद्धि तथा सामान्य विशेष सिद्धान्त

243-276

12

संचय प्रकोपादि षड्विध  क्रियाकल और अवस्था विशेष में प्रतिकार सिद्धान्त

309-336

13

व्यद्धिक्षमता अथवा रोग प्रतिकारक शक्ति आधुनिक दृष्टिकोण तथा आयुर्वेदीय विवेचन

337-352

14

व्याधि प्रत्यनीकता में स्वकृत परप्रभृति चिकित्सा तथा अंगो का ज्ञान

341-348

15

आम - आमविष, सामदोष निराम दोष - आमविष चिकित्सा विवेचन आधुनिक विज्ञानुसार आम विवेचन

349-387

16

स्त्रोतस स्वरूप - स्त्रोतों दृष्टि प्रकार - दृष्टि लक्षण, सामान्य दृष्टि कारण, सामान्य चिकित्सा तथा व्याधि चिकित्सा में महत्त्व

379-410

17

वात का आवरण आवर्य आवरक, आवृत तथा आवरण भेद और चिकित्सा सिद्धान्त

411-424

18

रोग अनुत्पत्तिकार चिकित्सा अर्थात अनागतरोग प्रतिकाररोग

424-456

19

स्थानान्तर समागत दोष चिकित्सा तथा व्याधि प्रत्यनीक चिकित्सा विमर्श

457-472

20

द्विविध उपकर्म तथा षडुपकर्म विवरण

463-496

21

पथ्यविमर्श

494-506

22

दोष दुष्य बल कल अग्नि प्रकृतिवय सात्म्य सत्वादि भावों का सूक्ष्म विचार

407-430

23

योगदर्शन सिद्धान्त तथा चिकित्सा पद्धति के साथ संबंध

431

24

प्राकृतिक चिकित्सा सिद्धान्त तथा कतिपय प्रयोग

466-495

25

यूनानी चिकित्सा शास्त्र का संक्षिप्त परिचय

495-605

26

अन्य चिकित्सा पद्धतियों का सामान्य परिचय तथा आयुर्वेद के साथ संबंध

607-612

Contents (Volume II)

1

ज्वर विमर्श

1-22

2

ज्वर प्रकार विमर्श

23-56

3

विषम ज्वरादि विमर्श

59-74

4

धातुगत ज्वरादि विमर्श

75-88

5

ज्वर चिकित्सा विमर्श

89-114

6

भेदावसथानुसार ज्वर चिकित्सा

114-130

7

विशेष ज्वर विमर्श

131-150

8

मलेरिया अन्य आधुनिक ज्वर

151-158

9

न्यूमोनिया श्वसनक ज्वर

159-184

10

ज्वर प्रकार

167-174

11

टिटनस,एनकेफेलाइटिस, प्लेग , कोलेरा आदि

175-184

12

अरुचि अग्निमांद्दादि विमर्श

185-218

13

आनाह, आध्मान , आटोपादि विवरण

219-228

14

छर्दि विसूचिका-असलक, विलम्बिकादि

229-260

15

गृहणी

261-278

16

गुल्म

279-306

17

शूल- परिणामशूल  अन्नद्रव शूलादि

307-355

18

कृमि रोग

345-360

19

अर्श

361-384

20

मूत्रवह स्त्रोत के रोग

394-440

21

प्राणवह स्तोत्रस् के रोग एवं चिकित्सा

441-462

22

श्वास हिक्का

463-488

23

हिक्का

479-502

24

पार्श्व शूल

503-507

25

राजयक्ष्मा

509-526

26

राजयक्ष्मा शोष

527-534

27

हृद्योग हृच्छूल हृदयाभिघात

535-560

28

रक्तवह  स्तोत्रस् के रोग

563-586

29

कामला -कुम्भ्कामला, हलीमक, पानकी

587-600

30

दाह

602-612

31

वातरक्त

613-628

32

प्लीह दोष

629-634

33

उदकवह स्तोत्र के रोग

635-646

34

अतिसार - प्रवाहिका

647-672

35

रसवह स्तोत्र की व्याधियाँ

673-696

36

मद मदात्यय , परमद पानजीर्ण, पानविभ्रमादि

697-714

37

मेदोवह स्तोत्रस् के रोग

715-740

38

यौन संकामित रोग

741-460

39

तरल वैद्युत, अम्लक्षार असंतुलन और विकार विवरण

761-770

40

टुबरकुलोसिस

771-778

41

त्वग्रोग

779-820

42

शीतपित्त -उदद्र - कोठ   

821-826

 

Contents (Volume III)

1

वात व्याधि

1-50

2

उरुस्तंभ

51-62

3

कुपोषणजन्यरोग - सामान्य विवरण  

63-68

4

कुपोषणजन्य विकार - स्थौल्यकाश्यार्दी

69-74

5

कुपोषणजन्य विकार - आधुनिक विचार

75-92

6

विभिन्न अन्त: स्त्रावी ग्रंथियों के व्याधियां

93-112

7

व्याधि के उत्पत्ति में आनुवंशिकता

113-130

8

रोगोत्पत्ति में पर्यावरण - व्याधिक्षम्त्व वातावरण परिवर्तन जन्य प्रभाव

131-155

9

चिकित्सा प्रेरक तत्त्व विचार

156-161

10

खाद्यान्न विषाक्तता तथा उपचार

162-170

11

गुरु धातुजन्य विषाक्तता तथा उनकी चिकित्सा

171-176

12

उष्णता एंव शीतता विकार और उसका प्रतिकार

177-182

13

दंश से उत्पन्न विकार तथा उनका प्रतिकार

183-194

14

चिकित्सक प्रेरित विकारो का सामान्य परिचय तथा प्रतिकार

195-204

15

व्याधिक्षम्त्व की विकृति से उत्पन्न व्याधियां

205-216

16

क्षुद्ररोग

217-238

17

मनस्वरूप विमर्श तथा मानस रोग

239-264

18

उन्माद

265-292

19

मानसरोग अपस्मार

293-312

20

आधुनिक कतिपय मानसरोग

313-320

21

आत्ययिक चिकित्सा अवस्थानुसार लक्षण या सावधानी

321-324

22

दग्धविज्ञान अन्यान्य आत्यधिक अवस्थाऍ

326-344

23

जल वैद्युत - जल संवहन अणुपरमाणु पोषण तथा विकार

345-360

24

रसायन विज्ञान

361-374

25

वाजीकरण

377-383

26

वार्धक्य से उत्पन्न विकारो का कारण तथा चिकित्सा

384-389

27

औषध अनुजर्ता

390-396

28

मधुमेह आदि उपद्रव

397-405

29

औषध प्रतिक्रिया, विषाक्तता तथा उपाय

406-416

30

उपसंहार (परीक्षोपयोगी '' तथा '')

417-422

 

Sample Pages

Volume-I











Volume-II











Volume-III











कायचिकित्सा: Kaya Chikitsa (Set of 3 Volumes)

Item Code:
NZA134
Cover:
Hardcover
Edition:
2009
ISBN:
8121801605
Language:
Sanskrit Text with Hindi Translation
Size:
8.5 inch X 5.5 inch
Pages:
2009
Other Details:
Weight of the Book: 2.0 Kg
Price:
$62.00   Shipping Free - 4 to 6 days
Look Inside the Book
Be the first to rate this product
Add to Wishlist
Send as e-card
Send as free online greeting card
कायचिकित्सा: Kaya Chikitsa (Set of 3 Volumes)
From:
Edit     
You will be informed as and when your card is viewed. Please note that your card will be active in the system for 30 days.

Viewed 13458 times since 25th Sep, 2019





Contents (Volume I)

 

लेखकीय निवेदन

 

 

प्रकाशकीय निवेदन

 

1

विषय प्रवेश

 

2

कायपद निरुक्ति - पर्याय परिभाषा भेद इत्यादि

1-18

3

चिकित्सापद निरुक्ति परिभाषा अंग

19-43

4

चिकित्सा के भेद या प्रकार

44-88

5

चिकित्सा परूष

69-120

6

व्याधि निरुक्ति परिभाषा, पर्याय

129-236

7

व्याधि के प्रकार

237-246

8

निदान - विमर्श

247-278

9

संप्राप्ति तथा व्याधि नामकरण सिद्धान्त

280-220

10

दोष धातु मलादि विवेचन

224-242

11

उपधातु, मालक्षयवृद्धि तथा सामान्य विशेष सिद्धान्त

243-276

12

संचय प्रकोपादि षड्विध  क्रियाकल और अवस्था विशेष में प्रतिकार सिद्धान्त

309-336

13

व्यद्धिक्षमता अथवा रोग प्रतिकारक शक्ति आधुनिक दृष्टिकोण तथा आयुर्वेदीय विवेचन

337-352

14

व्याधि प्रत्यनीकता में स्वकृत परप्रभृति चिकित्सा तथा अंगो का ज्ञान

341-348

15

आम - आमविष, सामदोष निराम दोष - आमविष चिकित्सा विवेचन आधुनिक विज्ञानुसार आम विवेचन

349-387

16

स्त्रोतस स्वरूप - स्त्रोतों दृष्टि प्रकार - दृष्टि लक्षण, सामान्य दृष्टि कारण, सामान्य चिकित्सा तथा व्याधि चिकित्सा में महत्त्व

379-410

17

वात का आवरण आवर्य आवरक, आवृत तथा आवरण भेद और चिकित्सा सिद्धान्त

411-424

18

रोग अनुत्पत्तिकार चिकित्सा अर्थात अनागतरोग प्रतिकाररोग

424-456

19

स्थानान्तर समागत दोष चिकित्सा तथा व्याधि प्रत्यनीक चिकित्सा विमर्श

457-472

20

द्विविध उपकर्म तथा षडुपकर्म विवरण

463-496

21

पथ्यविमर्श

494-506

22

दोष दुष्य बल कल अग्नि प्रकृतिवय सात्म्य सत्वादि भावों का सूक्ष्म विचार

407-430

23

योगदर्शन सिद्धान्त तथा चिकित्सा पद्धति के साथ संबंध

431

24

प्राकृतिक चिकित्सा सिद्धान्त तथा कतिपय प्रयोग

466-495

25

यूनानी चिकित्सा शास्त्र का संक्षिप्त परिचय

495-605

26

अन्य चिकित्सा पद्धतियों का सामान्य परिचय तथा आयुर्वेद के साथ संबंध

607-612

Contents (Volume II)

1

ज्वर विमर्श

1-22

2

ज्वर प्रकार विमर्श

23-56

3

विषम ज्वरादि विमर्श

59-74

4

धातुगत ज्वरादि विमर्श

75-88

5

ज्वर चिकित्सा विमर्श

89-114

6

भेदावसथानुसार ज्वर चिकित्सा

114-130

7

विशेष ज्वर विमर्श

131-150

8

मलेरिया अन्य आधुनिक ज्वर

151-158

9

न्यूमोनिया श्वसनक ज्वर

159-184

10

ज्वर प्रकार

167-174

11

टिटनस,एनकेफेलाइटिस, प्लेग , कोलेरा आदि

175-184

12

अरुचि अग्निमांद्दादि विमर्श

185-218

13

आनाह, आध्मान , आटोपादि विवरण

219-228

14

छर्दि विसूचिका-असलक, विलम्बिकादि

229-260

15

गृहणी

261-278

16

गुल्म

279-306

17

शूल- परिणामशूल  अन्नद्रव शूलादि

307-355

18

कृमि रोग

345-360

19

अर्श

361-384

20

मूत्रवह स्त्रोत के रोग

394-440

21

प्राणवह स्तोत्रस् के रोग एवं चिकित्सा

441-462

22

श्वास हिक्का

463-488

23

हिक्का

479-502

24

पार्श्व शूल

503-507

25

राजयक्ष्मा

509-526

26

राजयक्ष्मा शोष

527-534

27

हृद्योग हृच्छूल हृदयाभिघात

535-560

28

रक्तवह  स्तोत्रस् के रोग

563-586

29

कामला -कुम्भ्कामला, हलीमक, पानकी

587-600

30

दाह

602-612

31

वातरक्त

613-628

32

प्लीह दोष

629-634

33

उदकवह स्तोत्र के रोग

635-646

34

अतिसार - प्रवाहिका

647-672

35

रसवह स्तोत्र की व्याधियाँ

673-696

36

मद मदात्यय , परमद पानजीर्ण, पानविभ्रमादि

697-714

37

मेदोवह स्तोत्रस् के रोग

715-740

38

यौन संकामित रोग

741-460

39

तरल वैद्युत, अम्लक्षार असंतुलन और विकार विवरण

761-770

40

टुबरकुलोसिस

771-778

41

त्वग्रोग

779-820

42

शीतपित्त -उदद्र - कोठ   

821-826

 

Contents (Volume III)

1

वात व्याधि

1-50

2

उरुस्तंभ

51-62

3

कुपोषणजन्यरोग - सामान्य विवरण  

63-68

4

कुपोषणजन्य विकार - स्थौल्यकाश्यार्दी

69-74

5

कुपोषणजन्य विकार - आधुनिक विचार

75-92

6

विभिन्न अन्त: स्त्रावी ग्रंथियों के व्याधियां

93-112

7

व्याधि के उत्पत्ति में आनुवंशिकता

113-130

8

रोगोत्पत्ति में पर्यावरण - व्याधिक्षम्त्व वातावरण परिवर्तन जन्य प्रभाव

131-155

9

चिकित्सा प्रेरक तत्त्व विचार

156-161

10

खाद्यान्न विषाक्तता तथा उपचार

162-170

11

गुरु धातुजन्य विषाक्तता तथा उनकी चिकित्सा

171-176

12

उष्णता एंव शीतता विकार और उसका प्रतिकार

177-182

13

दंश से उत्पन्न विकार तथा उनका प्रतिकार

183-194

14

चिकित्सक प्रेरित विकारो का सामान्य परिचय तथा प्रतिकार

195-204

15

व्याधिक्षम्त्व की विकृति से उत्पन्न व्याधियां

205-216

16

क्षुद्ररोग

217-238

17

मनस्वरूप विमर्श तथा मानस रोग

239-264

18

उन्माद

265-292

19

मानसरोग अपस्मार

293-312

20

आधुनिक कतिपय मानसरोग

313-320

21

आत्ययिक चिकित्सा अवस्थानुसार लक्षण या सावधानी

321-324

22

दग्धविज्ञान अन्यान्य आत्यधिक अवस्थाऍ

326-344

23

जल वैद्युत - जल संवहन अणुपरमाणु पोषण तथा विकार

345-360

24

रसायन विज्ञान

361-374

25

वाजीकरण

377-383

26

वार्धक्य से उत्पन्न विकारो का कारण तथा चिकित्सा

384-389

27

औषध अनुजर्ता

390-396

28

मधुमेह आदि उपद्रव

397-405

29

औषध प्रतिक्रिया, विषाक्तता तथा उपाय

406-416

30

उपसंहार (परीक्षोपयोगी '' तथा '')

417-422

 

Sample Pages

Volume-I











Volume-II











Volume-III











Post a Comment
 
Post a Query
For privacy concerns, please view our Privacy Policy
Based on your browsing history
Loading... Please wait

Items Related to कायचिकित्सा: Kaya Chikitsa (Set of 3 Volumes) (Hindi | Books)

Prakritik Chikitsa (Malayalam)
by R. Gopimani
PAPERBACK (Edition: 2010)
Vidyarambham Publishers, Alappuzha
Item Code: NZR626
$21.00
Add to Cart
Buy Now
Chikitsa Manjari (Malayalam)
Item Code: NZR590
$33.00
Add to Cart
Buy Now
Kaya Chikitsa (A Text Book of Medicine)
Item Code: NAJ815
$36.00
Add to Cart
Buy Now
Interactive Workshop on Kaya Chikitsa
by Dr. V. V. Prasad
PAPERBACK (Edition: 2006)
Rashtriya Ayurveda Vidyapeeth
Item Code: NAS113
$31.00
Add to Cart
Buy Now
Testimonials
Namaskaram. Thank you so much for my beautiful Durga Mata who is now present and emanating loving and vibrant energy in my home sweet home and beyond its walls.   High quality statue with intricate detail by design. Carved with love. I love it.   Durga herself lives in all of us.   Sathyam. Shivam. Sundaram.
Rekha, Chicago
People at Exotic India are Very helpful and Supportive. They have superb collection of everything related to INDIA.
Daksha, USA
I just wanted to let you know that the book arrived safely today, very well packaged. Thanks so much for your help. It is exactly what I needed! I will definitely order again from Exotic India with full confidence. Wishing you peace, health, and happiness in the New Year.
Susan, USA
Thank you guys! I got the book! Your relentless effort to set this order right is much appreciated!!
Utpal, USA
You guys always provide the best customer care. Thank you so much for this.
Devin, USA
On the 4th of January I received the ordered Peacock Bell Lamps in excellent condition. Thank you very much. 
Alexander, Moscow
Gracias por todo, Parvati es preciosa, ya le he recibido.
Joan Carlos, Spain
We received the item in good shape without any damage. It is simply gorgeous. Look forward to more business with you. Thank you.
Sarabjit, USA
Your sculpture is truly beautiful and of inspiring quality!  I wish you continuous great success so that you may always be able to offer such beauty to all people throughout the world! Thank you for caring about your customers as well as the standard of your products.  It is extremely appreciated!! Sending you much love.
Deborah, USA
I’m glad you guys understand my side, well you guys have one of the best international store,  And I will probably continue being pleased costumer Thank you guys so much.
Renato, Brazil
Language:
Currency:
All rights reserved. Copyright 2021 © Exotic India