Please Wait...

कायचिकित्सा: Kaya Chikitsa (Set of 3 Volumes)

कायचिकित्सा: Kaya Chikitsa (Set of 3 Volumes)
$62.00
Item Code: NZA134
Author: वैद्द हरिदास श्रीधर कस्तुरे (Vaidya Haridas Shridhar Kasture)
Publisher: Chowkhamba Krishnadas Academy
Language: Sanskrit Text with Hindi Translation
Edition: 2009
ISBN: 8121801605
Pages: 2009
Cover: Hardcover
Other Details: 8.5 inch X 5.5 inch





Contents (Volume I)

 

लेखकीय निवेदन

 

 

प्रकाशकीय निवेदन

 

1

विषय प्रवेश

 

2

कायपद निरुक्ति - पर्याय परिभाषा भेद इत्यादि

1-18

3

चिकित्सापद निरुक्ति परिभाषा अंग

19-43

4

चिकित्सा के भेद या प्रकार

44-88

5

चिकित्सा परूष

69-120

6

व्याधि निरुक्ति परिभाषा, पर्याय

129-236

7

व्याधि के प्रकार

237-246

8

निदान - विमर्श

247-278

9

संप्राप्ति तथा व्याधि नामकरण सिद्धान्त

280-220

10

दोष धातु मलादि विवेचन

224-242

11

उपधातु, मालक्षयवृद्धि तथा सामान्य विशेष सिद्धान्त

243-276

12

संचय प्रकोपादि षड्विध  क्रियाकल और अवस्था विशेष में प्रतिकार सिद्धान्त

309-336

13

व्यद्धिक्षमता अथवा रोग प्रतिकारक शक्ति आधुनिक दृष्टिकोण तथा आयुर्वेदीय विवेचन

337-352

14

व्याधि प्रत्यनीकता में स्वकृत परप्रभृति चिकित्सा तथा अंगो का ज्ञान

341-348

15

आम - आमविष, सामदोष निराम दोष - आमविष चिकित्सा विवेचन आधुनिक विज्ञानुसार आम विवेचन

349-387

16

स्त्रोतस स्वरूप - स्त्रोतों दृष्टि प्रकार - दृष्टि लक्षण, सामान्य दृष्टि कारण, सामान्य चिकित्सा तथा व्याधि चिकित्सा में महत्त्व

379-410

17

वात का आवरण आवर्य आवरक, आवृत तथा आवरण भेद और चिकित्सा सिद्धान्त

411-424

18

रोग अनुत्पत्तिकार चिकित्सा अर्थात अनागतरोग प्रतिकाररोग

424-456

19

स्थानान्तर समागत दोष चिकित्सा तथा व्याधि प्रत्यनीक चिकित्सा विमर्श

457-472

20

द्विविध उपकर्म तथा षडुपकर्म विवरण

463-496

21

पथ्यविमर्श

494-506

22

दोष दुष्य बल कल अग्नि प्रकृतिवय सात्म्य सत्वादि भावों का सूक्ष्म विचार

407-430

23

योगदर्शन सिद्धान्त तथा चिकित्सा पद्धति के साथ संबंध

431

24

प्राकृतिक चिकित्सा सिद्धान्त तथा कतिपय प्रयोग

466-495

25

यूनानी चिकित्सा शास्त्र का संक्षिप्त परिचय

495-605

26

अन्य चिकित्सा पद्धतियों का सामान्य परिचय तथा आयुर्वेद के साथ संबंध

607-612

Contents (Volume II)

1

ज्वर विमर्श

1-22

2

ज्वर प्रकार विमर्श

23-56

3

विषम ज्वरादि विमर्श

59-74

4

धातुगत ज्वरादि विमर्श

75-88

5

ज्वर चिकित्सा विमर्श

89-114

6

भेदावसथानुसार ज्वर चिकित्सा

114-130

7

विशेष ज्वर विमर्श

131-150

8

मलेरिया अन्य आधुनिक ज्वर

151-158

9

न्यूमोनिया श्वसनक ज्वर

159-184

10

ज्वर प्रकार

167-174

11

टिटनस,एनकेफेलाइटिस, प्लेग , कोलेरा आदि

175-184

12

अरुचि अग्निमांद्दादि विमर्श

185-218

13

आनाह, आध्मान , आटोपादि विवरण

219-228

14

छर्दि विसूचिका-असलक, विलम्बिकादि

229-260

15

गृहणी

261-278

16

गुल्म

279-306

17

शूल- परिणामशूल  अन्नद्रव शूलादि

307-355

18

कृमि रोग

345-360

19

अर्श

361-384

20

मूत्रवह स्त्रोत के रोग

394-440

21

प्राणवह स्तोत्रस् के रोग एवं चिकित्सा

441-462

22

श्वास हिक्का

463-488

23

हिक्का

479-502

24

पार्श्व शूल

503-507

25

राजयक्ष्मा

509-526

26

राजयक्ष्मा शोष

527-534

27

हृद्योग हृच्छूल हृदयाभिघात

535-560

28

रक्तवह  स्तोत्रस् के रोग

563-586

29

कामला -कुम्भ्कामला, हलीमक, पानकी

587-600

30

दाह

602-612

31

वातरक्त

613-628

32

प्लीह दोष

629-634

33

उदकवह स्तोत्र के रोग

635-646

34

अतिसार - प्रवाहिका

647-672

35

रसवह स्तोत्र की व्याधियाँ

673-696

36

मद मदात्यय , परमद पानजीर्ण, पानविभ्रमादि

697-714

37

मेदोवह स्तोत्रस् के रोग

715-740

38

यौन संकामित रोग

741-460

39

तरल वैद्युत, अम्लक्षार असंतुलन और विकार विवरण

761-770

40

टुबरकुलोसिस

771-778

41

त्वग्रोग

779-820

42

शीतपित्त -उदद्र - कोठ   

821-826

 

Contents (Volume III)

1

वात व्याधि

1-50

2

उरुस्तंभ

51-62

3

कुपोषणजन्यरोग - सामान्य विवरण  

63-68

4

कुपोषणजन्य विकार - स्थौल्यकाश्यार्दी

69-74

5

कुपोषणजन्य विकार - आधुनिक विचार

75-92

6

विभिन्न अन्त: स्त्रावी ग्रंथियों के व्याधियां

93-112

7

व्याधि के उत्पत्ति में आनुवंशिकता

113-130

8

रोगोत्पत्ति में पर्यावरण - व्याधिक्षम्त्व वातावरण परिवर्तन जन्य प्रभाव

131-155

9

चिकित्सा प्रेरक तत्त्व विचार

156-161

10

खाद्यान्न विषाक्तता तथा उपचार

162-170

11

गुरु धातुजन्य विषाक्तता तथा उनकी चिकित्सा

171-176

12

उष्णता एंव शीतता विकार और उसका प्रतिकार

177-182

13

दंश से उत्पन्न विकार तथा उनका प्रतिकार

183-194

14

चिकित्सक प्रेरित विकारो का सामान्य परिचय तथा प्रतिकार

195-204

15

व्याधिक्षम्त्व की विकृति से उत्पन्न व्याधियां

205-216

16

क्षुद्ररोग

217-238

17

मनस्वरूप विमर्श तथा मानस रोग

239-264

18

उन्माद

265-292

19

मानसरोग अपस्मार

293-312

20

आधुनिक कतिपय मानसरोग

313-320

21

आत्ययिक चिकित्सा अवस्थानुसार लक्षण या सावधानी

321-324

22

दग्धविज्ञान अन्यान्य आत्यधिक अवस्थाऍ

326-344

23

जल वैद्युत - जल संवहन अणुपरमाणु पोषण तथा विकार

345-360

24

रसायन विज्ञान

361-374

25

वाजीकरण

377-383

26

वार्धक्य से उत्पन्न विकारो का कारण तथा चिकित्सा

384-389

27

औषध अनुजर्ता

390-396

28

मधुमेह आदि उपद्रव

397-405

29

औषध प्रतिक्रिया, विषाक्तता तथा उपाय

406-416

30

उपसंहार (परीक्षोपयोगी '' तथा '')

417-422

 

Sample Pages

Volume-I











Volume-II











Volume-III











Add a review

Your email address will not be published *

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Post a Query

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Related Items