SALE CLOSES IN

भीमा भोई (भारतीय साहित्य के निर्माता): Bhima Bhoi (Makers of Indian Literature)

$12
$16
(25% off)
Item Code: NZA306
Author: सीताकांत महापात्र (Sitakant Mahapatra)
Publisher: Sahitya Akademi, Delhi
Language: Hindi
Edition: 1992
ISBN: 8172013302
Pages: 90
Cover: Paperback
Other Details 8.5 inch x 5.5 inch
Weight 140 gm
Fully insured
Fully insured
Shipped to 153 countries
Shipped to 153 countries
More than 1M+ customers worldwide
More than 1M+ customers worldwide
100% Made in India
100% Made in India
23 years in business
23 years in business

पुस्तक  के  बारे में

 

उड़ीसा के कंध आदिवासी कवि भीमा भोई (1855-84) एक बड़े संत और स्वप्नद्रष्टा थे । वे महिमा या अदनेखा सम्प्रदाय के आख्याता थे । उन्होंने धर्म के दार्शनिक और तात्त्विक विचारों को सरल गीतमय ओड़िया कविता में गूँथा । उनके भजन और बोलियाँअसंख्य लोगों द्वारा करताल और खंजरी की ध्वनि पर उड़ीसा के गाँव-गाँव में गायी जाती हैं ।

विषम द्वंद्वात्मक संकल्पनाओं और स्थिति के कारण भीमा के काव्य में बिम्ब और रूपकों में वैचित्र्यपूर्ण मार्मिक चित्रांकन हुआ है । अनजान पदचाप से मजबूत धरती कंपित हो जाती है, तरु पुष्पित होते हैं लेकिन उनकी छाया नहीं होती । फूलों में रंग ही नहीं, विष भी होता है, नदियाँ आप्लावित होती हैं मगर उद्वेलित नहीं होतीं, आकाश में उल्कापात होता है, जलविहीन समुद्र होते हैं और सुनाई न देनेवाली संगीत की ध्वनि पर नृत्य होता है । आत्मरूपी विचित्र सुन्दर मधु-मक्खियाँ आत्म-सिद्धि का अमृतपान करती है और इस प्रकार भाषा ऐसे स्तर पर पहुँच जाती है जंहाँ किसी प्रकार के अलंकार, लय, न्यास और अनुप्रास मात्रा अनावश्यक होते है ।

लोक मुहावरों और लोकभाषा के समुचित तालमेल से भीमा की भाषा जन-साधारण की भाषा बनी जो भावातिरेक से स्पन्दित है । इसमें विनय, दैन्य समर्पण, रोष, अमर्ष और नैतिक अभिकथन निहित हैं।

सीताकांत महापात्र भारतीय काव्य जगत के सुपरिचित कवि और आलोचक हैं। अपनी रचनाओं के लिए इन्हें अनेक पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है ।1974 में इन्हें ओड़िया की महत्त्वपूर्ण काव्य-कृति के लिए साहित्य अकादेमी पुरस्कार मिल चुका है । प्रस्तुत विनिबंध में उन्होंने भीमा भोई के अल्पज्ञात जीवन की रूपरेखा को अंकित कर उनकी कविता का समुचित मूल्यांकन किया है । उनका यह प्रयास ओड़िया न जाननेवाले पाठकों के लिए भी विशेष महत्त्वपूर्ण है।

 

विषय सूची

पृं.सं.

1

अल्प-ज्ञात जीवन की रूपरेखा

7

2

महिमा धर्म और भीमा भोई -रक्त पंरपरा

22

3

स्तुति चिंतामणि और भजन माला

30

4

अन्य रचनाएँ

40

5

मूल्यांकन

44

6

कविताओं से चयन

51

7

ग्रन्थ सूची

75

8

शब्दावली

78

 

 

Add a review
Have A Question

For privacy concerns, please view our Privacy Policy

Book Categories